Zerodha launching mutual fund AMC | ज़ेरोधा को म्यूचुअल फंड AMC लॉन्च करने की मंजूरी मिली

by Neeti Jain
7 mins read
Zerodha gets SEBI approval to launch mutual fund AMC

Zerodha gets SEBI approval to launch mutual fund AMC, ज़ेरोधा को म्यूचुअल फंड AMC लॉन्च करने की मंजूरी मिली

Zerodha launching mutual fund AMC – इन दिनों देश में नए म्यूच्यूअल फण्ड हाउस बनाने का दौर सा चालू हो गया है, अभी हाल ही में बजाज ने AMC की घोषणा की, वही फ्लिप्कार्ट के फाउंडर सचिन बंसल ने भी नवी म्यूच्यूअल फण्ड नाम से म्यूच्यूअल फण्ड स्कीम लांच कर दी, अब इसी दौड़ में ज़ेरोधा का नाम भी जुड़ रहा है। ज़ेरोधा को SEBI से मिली म्यूचुअल फंड AMC लॉन्च करने की मंजूरी। तो चलिए जानते है ज़ेरोधा के बारे में और कंपनी द्वारा लांच की जाने वाली AMC के बारे में –

Zerodha के बारे में (About Zerodha)

ज़ेरोधा ने खुद को भारत में एक प्रमुख स्टॉक ब्रोकर के रूप में स्थापित किया है। यह डिस्काउंट ब्रोकिंग में अग्रणी होने के कारण इसने अपने निश्चित मूल्य निर्धारण मॉडल, उन्नत ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और नवीन ट्रेडिंग सुविधाओं के साथ खुदरा ब्रोकिंग उद्योग में बड़े पैमाने पर व्यवधान पैदा किया। जिसने इसे लॉन्च के एक दशक के भीतर उपयोगकर्ता आधार द्वारा देश की सबसे बड़ी ब्रोकरेज फर्म बना दिया है

ज़ेरोधा के कारण ही कई ऑनलाइन डिस्काउंट ब्रोकरों और कई पूर्ण-सेवा स्टॉक ब्रोकरों को फ्लैट-फीस ब्रोकरेज मॉडल अपनाना पड़ा। ज़ेरोधा की पारदर्शी व्यावसायिक प्रथाओं और इसके उपयोगकर्ताओं के साथ निरंतर जुड़ाव के साथ उपरोक्त कारण इसे भारत में सबसे अच्छा स्टॉक ब्रोकर बनाते हैं।

ज़ेरोधा ने 2010 में ’20 रुपये प्रति ऑर्डर ब्रोकर’ के रूप में अपनी यात्रा शुरू की और व्यापारियों, विशेष रूप से उच्च मात्रा वाले डेरिवेटिव व्यापारियों के बीच, कम लागत वाले खिलाड़ी के रूप में लोकप्रियता हासिल की।

ज़ेरोधा ने कब म्यूचुअल फंड लाइसेंस के लिए आवेदन किया (When Zerodha applied for mutual fund license)

आप को बता दे साल 2020 फ़रवरी में Zerodha ने अपनी परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनी (एएमसी) भारत में शुरू करने के लाइसेंस का आवेदन किया था, लेकिन उसके अगले ही महीने मार्च 2020 में Covid -19 महामारी का दौर शुरू हो गया, जिसके कारण ये सब आगे बढ़ गया या कहे की टल गया था।

जेरोधा ने फरवरी 2021 में फिर से म्यूचुअल फंड लाइसेंस के लिए आवेदन किया। इसके साथ ही म्यूच्यूअल फण्ड के क्षेत्र में zerodha भी अपनी किस्मत आज़माने के लिए तैयार है, ज़ेरोधा अब एक साल के समय में अपनी एसेट मैनेजमेंट कंपनी (एएमसी) शुरू कर सकेगी।

ज़ेरोधा के संस्थापक नितिन कामथ ने 1 सितंबर को घोषणा की, कि फर्म को एक परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनी (एएमसी) asset management company (AMC). स्थापित करने के लिए Securities and Exchange Board of India (SEBI, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड, सेबी) से सैद्धांतिक मंजूरी मिल गई है।  जिससे की आने वाले दिनों में कंपनी म्यूच्यूअल फण्ड योजनायें लांच कर पायेगी।

Zerodha launching mutual fund AMC

ज़ेरोधा की ताकत (Zerodha Strength)

आज ज़ेरोधा के पहुँच इतनी हो गयी है की कंपनी के प्लेटफार्म से NSE/BSE एक्सचेंजों पर ज़ेरोधा के माध्यम से प्रतिदिन चार मिलियन ट्रेड होते है जिन्हें कंपनी भली भांति संभालती है। रिटेल इन्वेस्टर/खुदरा निवेशकों को भी ज़ेरोधा द्वारा लॉन्च किए गए Coin प्लेटफॉर्म का उपयोग करके म्यूचुअल फंड योजनाओं के डायरेक्ट प्लान के विकल्प में निवेश करना काफी आकर्षक लगा, और यही कारण है कि इतने कम समय में ज़ेरोधा इतना लोकप्रिय हो गया। कॉइन के पास आज 5500 करोड़ रुपये की प्रबंधनाधीन संपत्ति है।

आप पढ़ रहे है – Zerodha launching mutual fund AMC soon

ज़ेरोधा का म्यूच्यूअल फंड AMC लांच करने के पीछे उद्देश्य (Why Zerodha launching Mutual Fund AMC)

कामथ कहते हैं, ”युवा निवेशकों से निवेश आकर्षित करने के लिए म्युचुअल फंड उत्पादों को सरल बनाने की जरूरत है.

कामथ ने फरवरी 2020 में कहा था – “पूंजी बाजार capital market की भागीदारी को मौजूदा 1.5 करोड़ से बढ़ाने और उन लोगों को संबोधित करने के लिए, जो वर्तमान में (मिलेनियल/Millennials/आज की युवा पीढ़ी) निवेश नहीं करते हैं , हमें लगता है कि म्यूचुअल फंड को एक उत्पाद के रूप में फिर से तैयार (रि-डिज़ाइन) करने की जरूरत है। जिसके लिए हमने, म्यूचुअल फंड एएमसी (AMC) शुरू करने लाइसेंस के लिए आवेदन किया है।”

अभी हाल ही में वित्तीय सेवा कंपनी बजाज फिनसर्व ने घोषणा की, कि सेबी ने म्यूचुअल फंड को प्रायोजित करने के लिए कंपनी को अपनी सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। कंपनी एक एसेट मैनेजमेंट कंपनी (एएमसी) भी स्थापित करने जा रही है।

ज़ेरोधा के लिए म्यूचुअल फंड व्यवसाय के लिए सेबी की मंजूरी ऐसे समय में आई है जब म्यूच्यूअल फंड निवेश का एक लोकप्रिय तरीका बन गया है जिसमे म्यूच्यूअल फंड उद्योग की संपत्ति (जिसे हम प्रबंधन के तहत संपत्ति/एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम/AUM) बोलते है) जुलाई के अंत में ₹35 लाख करोड़ के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गई है।

कामत ने कहा था कि इससे पहले आज, परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनी ट्रू बीकन ने एक नया वैकल्पिक निवेश कोष लॉन्च किया, जो इक्विटी और कर-मुक्त बॉन्ड में निवेश करेगा।

उन्होंने आगे कहा कि नया फंड उन नए निवेशकों के लिए आदर्श होगा जो इक्विटी में निवेश बढ़ाना चाहते हैं।

यह फंड देश की सबसे बड़ी 200 कंपनियों में निवेश करेगा ताकि मुद्रास्फीति और अस्थिरता से बचाव के लिए सॉवरेन-समर्थित ऋण घटक के साथ संयुक्त मूल्य प्रशंसा हासिल की जा सके।

भारत  2021 में कुल म्यूच्यूअल फंड हाउसो की संख्या (Total Number of Mutual Fund Houses in India)

भारत में साल 2021 तक कुल 44 परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनियां/एसेट मैनेजमेंट कंपनियां (एएमसी/AMC) या म्यूचुअल फंड हाउस काम कर रहे हैं। ये कंपनियां निवेशकों के निवेश का प्रबंधन करती हैं ताकि उन्हें इष्टतम रिटर्न मिल सके। ज़ेरोधा के म्युचुअल फंड क्षेत्र में प्रवेश के साथ, भारत में अब करीब 45 म्यूचुअल फंड हाउस होंगे।

आज हमने पढ़ा कि ज़ेरोधा को म्यूचुअल फंड AMC लॉन्च करने की मंजूरी SEBI से मिल गयी है (Zerodha gets SEBI approval to launch mutual fund AMC), मिली, आगे हम ज़ेरोधा के फंड हाउस और म्यूच्यूअल फंड के और भी रोचक टॉपिक आपके लिए लाते रहेंगे । आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमे बताएं। हमे आपके सुझाव एवं कमेंट्स का इंतज़ार रहेगा। बने रहिये apneebachat.com पर।

You may also like

Leave a Comment