Important Takeaways

Personal or Home Budget Kya hai पर्सनल या होम बजट क्या है?

What is budget and their benefits in Hindi या Personal or Home Budget Kya hai their benefits – क्या आप जानते हैं कि हर महीने आपका पैसा कहां जा रहा है? मासिक बजट यह जानने का सब से सरल उपाय है | बजट बनाना और उसका पालन करना कुछ लोगों को बहुत मुश्किल या थकाऊ लगता है परन्तु वास्तव में बजट हमे पैसा कैसे अधिक कुशलता से खर्च करना सिखाता है|

इस पोस्ट में हम देखेंगे कि –

बजट क्या है

What is Budget – बजट एक लिखित योजना है जो कि यह बताता है कि हम अपना पैसा कैसे खर्च कर रहे है। बजट बनाना अपने फाइनेंस को कण्ट्रोल करने का प्राइमरी तरीका है | एक बजट यह सुनिश्चित करता है कि आप जो कमाते हैं उसका योजनाबद्ध तरीके से प्रबंधन कर रहे है या नही । यह आपको यह समझने में मदद करता है कि आपके पास कितना पैसा है और वह पैसा कहाँ खर्च किया जा रहा है और यही आपको धीरे धीरे वित्तीय सफलता की ओर ले जाता है|

बजट की शक्ति / बजट क्या कर सकता है

आपके खर्च और बचत कि योजना बनाता है – एक लिखित मासिक बजट आपको योजना बनाने की अनुमति देता है कि हम हर महीने अपने पैसे कैसे खर्च या बचत करेंगे | बजट आपको यह बताता है कि आप क्या खरीद सकते हैं? कितना निवेश कर सकते? और योजना बना सकते है कि अपने ऋण को कैसे कम कर पायेंगे| प्रॉपर प्लानिंग के साथ बनाया गया बजट जल्द ही आप के फिजूल के कर्चे कम कर के आप को अन्य जरुरी क्षेत्र जैसे- इमरजेंसी फण्ड/ सेवानिवृत्ति के लिए पैसा जोड़ना शुरू करवा देता है|

आपको यह पता बताता है कि आपके पैसे के साथ क्या हो रहा है लिखित बजट हमे खर्च का लेखा जोखा दिखाता है कि हम किस क्षेत्र में कितना खर्च कर रहे है, कहाँ कितना निवेश कर रहे है या कितना धन हम फिजूल खर्च कर रहे है| बजट आपको यह भी बताता है कि आप अपने फंडों का आवंटन कैसे कर सकते हैं, आपका पैसा आपके लिए कैसे काम कर रहा हैं, और आप अपने वित्तीय लक्ष्यों तक पहुंचने में कितने दूर हैं| यह आपको तय करने में भी मदद करता है कि आप लॉन्ग टर्म लाभ के बदले शोर्ट टर्म खर्च का त्याग करना चाहते हैं या नहीं?

आपका अपने पैसे पर नियंत्रण होता हैं  – ऐसा कहा जाता है कि बजट होता है, तो आप अपने पैसे को नियंत्रित करते हैं, न कि आपका पैसा आपको| बजट के साथ आप अपने खर्च को प्राथमिकता देना शुरू कर देते हैं जिससे हम अपने पैसे और वित्तीय भविष्य को बेहतर प्रबंधन का अवसर देते है। बजट बताता है कि हम किस क्षेत्र में कम और किस क्षेत्र में अधिक कर्च कर रहे है जिससे आपको पता चल जाता है आपको अपने खर्चे (जरुरी/गैरजरुरी) कब रोकना है।

आपको अपने खर्च और बचत को व्यवस्थित करने में मदद करता है – यदि आप एक क्षेत्र में कम खर्च करते हैं तो उस क्षेत्र के लिए निर्धारित बजट को कम करके आप जिस क्षेत्र में अधिक खर्च कर करते हैं उसके बजट में बढ़ा सकते है, या भविष्य के खर्चो/ खरीदारी के लिए उस बचे हुए धन का उपयोग कर सकते है| बजट न कि हमारे खर्च करने के व्यवहार को दर्शता है बल्कि हम को अधिक खर्च वाले क्षेत्र को संयमित करने का अवसर भी देता है| अगर आप बजट के अनुसार खर्च करते है तो आखिर में आप का ही धन बचता है, जो आप के किसी और काम आ सकता है|

धन के बारे में अपने परिवार के साथ संवाद करने में आपको सक्षम बनाता है – यदि आप अपने जीवनसाथी, बच्चों और परिवार के साथ अपना पैसा साझा करते हैं तो बजट ये बताता है कि आप समूह के रूप में पैसे का उपयोग कैसे कर रहे हैं। यह सामान्य वित्तीय लक्ष्यों के लिए काम करने पर टीमवर्क को बढ़ावा देता है, और इस बात पर संघर्ष को रोकता है कि धन का उपयोग कैसे किया जाता है| बजट बनाना परिवार के सदस्यों को जिम्मेदार और जवाबदेह बनाता है।

आपको संभावित समस्याओं के लिए एक प्रारंभिक चेतावनी प्रदान करता है – जब आप फाइनेंसियल प्लानिंग करते हो तो हम बजट के कारण आपने भविष्य के खर्चो को प्लान कर पाते है| आप को संभावित रूप से समस्या प्रकट होने से पहले हे आप को कितने धन कि आवश्यकता होगी ये बता देता है, जिससे आप को पर्याप्त समय एडजस्टमेंटस करने के लिए मिल जाता है।

आपको यह निर्धारित करने में मदद करता है कि क्या आप ऋण ले सकते हैं और कितना – ऋण लेना गलत नही है- यदि ऋण आवश्यक है, और आप इसे वहन कर सकते हैं तो। बजट आप को बताता है कि बिना तनाव के आप वास्तविक रूप से कितना ऋण भार ले सकते हैं, या ऋण भार लेना उचित भी है या नही।

सफल बजट कैसे बनाया जाता है

How to make successful budget – तो चलिए एक सफल बजट बनाने के लिए किन महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए उस पर बात कर लेते है या ये भी बोल सकते है प्रभावी बजट कैसे बनाये –

हर वित्तीय विवरण को इकट्ठा करें (Gather every financial statement)– इसमें आपके बैंक स्टेटमेंट (statement), निवेश खाते, हाल ही में भरे बिल और आय एवं व्यय के स्रोत के बारे में सभी जानकारी शामिल करे| यदि आप स्व-नियोजित (सेल्फ एम्प्लोयीड) हैं या आय के कुछ और भी स्रोत हैं, तो इन्हें भी रिकॉर्ड करना न भूले। यदि आपकी आय एक नियमित तनख्वाह के रूप में है, जहां कर (taxes) स्वचालित (आटोमेटिक) रूप से काटे जाते हैं, तो शुद्ध आय (या टेक-होम पे) राशि का उपयोग करना ठीक है। इस कुल आय को मासिक राशि के रूप में दर्ज करें। यह सब एक मासिक औसत बनाना बजट बनाने में महत्वपूर्ण है इसलिए अधिक से अधिक, छोटी से छोटी आय एवं व्यय जानकारीयो को शामिल करे, जिससे बेहतर बजट बने|

मासिक खर्चों की एक सूची बनाएं (Record all your sources of income) – एक महीने के दौरान आपके द्वारा खर्च किए गए सभी अपेक्षित (एक्सपेक्टेड) खर्चों की एक लिस्ट बनाये। इसमें होम लोन भुगतान, कार लोन भुगतान, ऑटो बीमा, किराने का सामान, बिल्स/यूटिलिटीज(टी. वी., मोबाइल, इन्टरनेट आदि), बच्चों की स्कूल फीस, मनोरंजन, ड्राई क्लीनिंग, छात्र ऋण, सेवानिवृत्ति बचत आदि शामिल करे, जो अनिवार्य रूप से आप हर महीने खर्च करते हैं।

खर्चों को दो श्रेणियों में तोड़ें – दो श्रेणिया बनाये- निश्चित और परिवर्तनशील।

निश्चित व्यय (Fixed Expenses) :  वे हैं जो प्रत्येक माह अपेक्षाकृत समान रहते हैं और आपके जीवन जीने के आवश्यक भागों में से होते हैं। वे आपके होम लोन की किश्त या किराए का भुगतान, कार भुगतान, केबल और / या इंटरनेट सेवा, कचरा पिकअप, क्रेडिट कार्ड भुगतान, आदि जैसे खर्च शामिल है। ये सभी खर्च आवश्यक हैं, और इनमे बदलाव की संभावना भी कम या नहीं है।

परिवर्तनीय खर्च  (Variable Expenses): वह प्रकार है जो महीने-दर-महीने बदल सकते है – जैसे किराने का सामान, फ्यूल का खर्च, मनोरंजन, बाहर खाना, और उपहार शामिल हैं। बजट एडजस्टमेंट करते समय यह श्रेणी महत्वपूर्ण होती है और हम इस में आसानी से एडजस्ट कर सकते है|

आपकी मासिक आय और मासिक खर्च कुल (Create list of monthly expenses) – यदि आपका अंतिम परिणाम खर्चों से अधिक आय दिखाता है, तो आप एक अच्छी शुरुआत के लिए तैयार हैं। इसका मतलब है कि आप अपने बजट के क्षेत्रों जैसे- सेवानिवृत्ति की बचत, क्रेडिट कार्ड शेष पर या अधिक भुगतान करके ऋण को तेजी से समाप्त करने के लिए इसे अधिक प्राथमिकता दे सकते हैं। यदि आप का अंतिम परिणाम आय से अधिक व्यय स्तंभ दिखा रहे हैं तो इसका मतलब है कि कुछ बदलाव करने होंगे।

खर्चों में एडजस्टमेंट करें (Make adjustments to expenses) – यदि आपने अपने सभी खर्चों को सही तरीके से पहचाना और सूचीबद्ध किया है, तो अंतिम लक्ष्य आपकी आय और व्यय कॉलम बराबर होना चाहिए। इसका मतलब है कि आपकी आय का सही प्रबंधन एक अच्छे बजट के लिए तैयार है। यदि आप ऐसी स्थिति में हैं जहां खर्च आय से अधिक है, तो आपको अपने परिवर्तनशील खर्चो की तरफ देखते हुए उनमे कटौती करने की कोशिश करना चाहिए । चूंकि ये खर्च आम तौर पर गैर-जरूरी होते हैं, इसलिए आपको अपने खर्चो को अपनी आय के आसपास लाने के लिए ज्यादा चुनौतियों का सामना नही करना पड़ेगा। केवल कुछ स्थानों पर कटौती करके आप बहुत ही सरलता से इसे कर पाएंगे| उदाहरण के लिए – आप जिम की सदस्यता से छुटकारा पा सकते हैं, अक्सर फिल्म देखने या बाहर खाने पर कटौती कर सकते हैं।

अपने बजट की मासिक समीक्षा करें (Review your budget monthly) – यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप ट्रैक पर हैं या नहीं इसके लिए नियमित रूप से अपने बजट की समीक्षा करना महत्वपूर्ण है। पहले महीने के बाद बजट की समीक्षा करने के लिए समय निकाले और वास्तविक खर्चों की तुलना करें जो आपने बजट में बनाया था। यह आपको दिखाएगा कि आपने कहां अच्छा किया है और आपको कहां सुधार करने की आवश्यकता है। जहाँ आवश्यकता हो वहां एडजस्टमेंट करे| आप को २-३ महीने लग सकते है एक कुशल बजट बनाने में|

इस पोस्ट में हमने ये देखा की बजट क्या है कैसे ये कर्ज कम करने में मददगार है और साथ ही वेल्थ क्रिएशन में भी मदद करता है, अगली पोस्ट में हम निवेश के भिन्न भिन्न तरीके समझेंगे जिसमे क्रम में सबसे पहले है, फिक्स्ड डिपाजिट या एफडी क्या है, ये कैसे काम करता है और इसके क्या लाभ है?

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *