Mutual Fund SIP kya hai, Kaise bane Amir | म्यूच्यूअल फंड सिप क्या है, कैसे बने अमीर

by Neeti Jain
Mutual-Fund-SIP-kya-hai-SIP-se-Kaise-bane-amir

Mutual Fund SIP kya hai? SIP se Kaise bane amir? – आइये जानते है सिप क्या है , ये कैसे काम करता है, कैसे हम सिप की मदद से हम अपने लक्ष्यों को पाने में सफल होते है।

एसआईपी या सिप (SIP) क्या है?

What is SIP? – सिस्टेमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान, जिसे आमतौर पर एसआईपी या सिप (SIP) भी कहते है। यह म्यूचुअल फंड कंपनियों द्वारा दिया जाने वाला एक निवेश मार्ग है जिसमें मुचुअल फंड स्कीम में एकमुश्त निवेश करने के बजाय, एक निश्चित राशि का निवेश नियमित अंतराल पर किया जाता है – यह अंतराल एक महीने हो सकता है, एक तिमाही में हो सकता है।

निवेशित किश्त राशि कम से कम 500 रुपये महीने होती है। और ये समझने के हिसाब से और एक रेकरिंग डिपाजिट या आवर्ती जमा के समान है। यह बहुत ही सुविधाजनक है क्योंकि आपको अपने बैंक को एक बार स्टैंडिंग इंस्ट्रक्शन देना है, जिसके बाद हर महीने की नियत दिनांक को आपके बैंक से म्यूच्यूअल फंड द्वारा ये राशि अपने आप काट ली जाएगी।

एसआईपी भारतीय म्यूच्यूअल फंड निवेशकों के बीच काफी लोकप्रियता हासिल कर रहा है, क्योंकि यह बाजार की अस्थिरता (वोलेटिलिटी) और मार्किट के टाइमिंग की चिंता किए बिना अनुशासित तरीके से निवेश करने में मदद करता है। म्यूचुअल फंड्स द्वारा प्रस्तावित सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान निवेश की दुनिया में प्रवेश करने का सबसे अच्छा और आसान तरीका है।

दीर्घावधि के लिए निवेश करना बहुत महत्वपूर्ण है, जिसका अर्थ है कि आपको रिटर्न को अधिकतम करने के लिए जल्दी निवेश शुरू करना चाहिए। तो – अपने निवेश से सर्वोत्तम लाभ प्राप्त करने के लिए आपका मंत्र होना चाहिए – जल्दी निवेश की शुरुआत करे, नियमित निवेश करें।

एकमुश्त निवेश के विपरीत, आप समय के साथ अपने निवेश को एसआईपी के साथ फैलाते हैं। इसलिए, आपको SIP के माध्यम से अपने म्यूचुअल फंड निवेश के साथ आरंभ करने के लिए बड़ी राशि होने की आवश्यकता नहीं है।

उदाहरण के लिए – यदि आप विदेश यात्रा के लिए 5.4 लाख एक कोष बनाना चाहते हैं, तीन सालो में। तो आपको मासिक 15,000 रुपये की एसआईपी में निनेश शुरू करना होगा, जिससे आप आसानी से अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं।

आप पढ़ रहे है – Mutual Fund SIP kya hai? SIP se Kaise bane amir?

एसआईपी या सिप (SIP) कैसे काम करती है?

How Does an SIP Work? – हर बार जब आप एक एसआईपी के माध्यम से म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश करते हैं, तो आप निवेश की गई राशि के अनुसार निश्चित संख्या में फंड यूनिट खरीदते हैं। एसआईपी के माध्यम से निवेश करते समय आपको लाभ यह है कि आपको बाजार के उतार-चढ़ाव के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं होती है। क्योंकि सिप मार्किट डाउन होने पर ज्यादा यूनिट खरीद पाता है जिससे आपके निवेश की लागत कम हो जाती है।

वही इसके विपरीत जब मार्किट में बढ़त होती है तब आप बाजार से कम इकाइयां खरीदते हैं। चूंकि सभी म्यूचुअल फंडों के एनएवी को दैनिक आधार पर अपडेट किया जाता है, इसलिए खरीद की लागत एक एसआईपी किस्त से दूसरे में भिन्न होती है। समय के साथ, खरीद की लागत औसत से कम हो जाती है। इसे रुपये की औसत लागत के रूप में जाना जाता है। एकमुश्त निवेश करने पर यह लाभ नहीं मिलता है।

एसआईपी या सिप (SIP) के फायदे/लाभ क्या है?

Benefits of SIP – निम्न sip के लाभ है –

1. वित्तीय अनुशासन लाता है – म्यूचुअल फंड में एसआईपी का मतलब है कि आपको नियमित अंतराल में एक विशेष राशि निवेश करना है। यह वित्तीय अनुशासन लाता है जहां आप भविष्य के खर्चों के लिए बचत और निवेश के लिए धन आवंटित करते हैं। इसका मतलब है कि आप समय के साथ वित्तीय रूप से अनुशासित हो रहे हैं और आने वाले दिनों भविष्य के लिए वित्तीय जरूरतों के हिसाब से योजना बना रहे हैं। अनुशासित होने के नाते, आप तार्किक निर्णय और विवेकपूर्ण निवेश करने में अपनी खुद की मदद करते हैं।

2. सरल और सुविधाजनक – एसआईपी निवेश में बहुत सी सुविधओं होती है। आप निवेश के लिए खुद निवेशित राशि का चयन कर सकते हैं। जो कि कम से कम रुपये 500 है और ज्यादा आपके मासिक निवेश करने की क्षमता पर निर्भर करता है।

इसके अतिरिक्त, SIP निवेश प्रक्रिया पूरी तरह से आटोमेटिक या स्वचालित है। एक बार सेट होने पर, आपको हर निवेश अंतराल पर चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, एक निश्चित राशि आपके बैंक अकाउंट से नियत तिथि पर अपने आप काट ली जाएगी। यह निश्चित राशि क्रय इकाइयों के लिए म्यूचुअल फंड हाउस को जमा की जाती है। म्यूचुअल फंड यूनिट आपके म्यूचुअल फंड के खाते में जमा होती जाती हैं।

आप पढ़ रहे है – Mutual Fund SIP kya hai? SIP se Kaise bane amir?

3. विभिन्न मार्किट साइकिल में निवेश करना – जब बाजार गिर रहा होता है मतलब बाजार कम भाव पर होता हैं तो उतनी ही राशि में आप अधिक संख्या में सिप इकाइयां खरीद सकते है। इसके विपरीत जब बाजार उच्च स्तर पर होता है तो आपको उतनी ही राशि में निम्न या कम इकाइयाँ मिलती हैं।

कुल मिलाकर, निवेशक एकमुश्त निवेश की तुलना में एसआईपी में निवेश करके बाजार की अस्थिरता से कम से कम प्रभावित होता है। क्योंकि एकमुश्त निवेश उच्च या निम्न मूल्य पर हो सकता है लेकिन एसआईपी में आपकी लागत को एक अवधि में फैलने की अनुमति मिलती है और आपको एवरेज परचेस प्राइस (औसत खरीद मूल्य) मिलता है। इस प्रकार, यह रुपये की औसत लागत (benefit of rupee cost averaging) का लाभ भी देता है।

4. चरणबद्ध निवेश – SIP का उपयोग करके आप हर महीने कम संख्या में म्यूचुअल फंड यूनिट खरीद रहे हैं। इस प्रकार आपको समय-समय पर चरणबद्ध तरीके से निवेश करने में मदद मिलती है।

आप पढ़ रहे है – Mutual Fund SIP kya hai? SIP se Kaise bane amir?

सिप रिटर्न की गणना कैसे करें?

How to calculate sip returns? – एसआईपी का रिटर्न फ्यूचर वैल्यू ऑफ़ एन्युटी (FVA) फार्मूला से कैलकुलेट कर सकते है

FV = future value earned upon maturity, फ्यूचर वैल्यू मचुरिटी के अंत में,

P = fixed investment through sip, इन्वेस्टमेंट सिप अमाउंट,

r = interest rate, इंटरेस्ट रेट,

n = investment duration, निवेश की अवधि,

अब, आपका मासिक रिटर्न होगा 12%/12 = 1/100 = 0.01

इसलिए, आपके द्वारा मेच्यरिटी पर अर्जित अनुमानित धनराशि है:

FV = 2500 ({(1 + 0.01)12 – 1} / 0.01) x (1 + 0.01)

FV = करीब 32,023 रुपये 12 महीनो में.

Further Readings:
1. Top 5 Best Investment Plan for 2021
2. NAV Kya Hai? Mutual Fund NAV (Net Asset Value) in Hindi

एसआईपी के वेरिएंट: दैनिक, साप्ताहिक, मासिक

SIP Variants: Daily, Weekly and Monthly – एक दैनिक एसआईपी योजना के तहत निवेशकों को म्यूचुअल फंड में प्रत्येक व्यवसाय या ट्रेडिंग दिवस में निवेश करने की आवश्यकता होती है। एक मासिक एसआईपी वह है जहां आप हर महीने एक निश्चित राशि का निवेश करते हैं और एक त्रैमासिक एसआईपी वह है जहां आप हर तिमाही में निवेश करते हैं।

पहली नज़र में, एक दैनिक एसआईपी एक मासिक एसआईपी की तुलना में  वोलेटिलिटी (अस्थिरता) को देखते हुए ज्यादा ठीक लग सकती है, क्योंकि आप हर दिन निवेश करते हैं। लेकिन हमेशा ऐसा ही नहीं होता है। केवल अत्यधिक अस्थिर फंड जैसे कि स्मॉल-कैप फंड, दैनिक एसआईपी मासिक एसआईपी से बेहतर होती है। ज्यादातर समय, मासिक एसआईपी निवेश के लिए सबसे अच्छा होती है, क्यूंकि जैसे ही आपकी मासिक सैलरी आती है आप इसमें निवेश कर सकते है । मासिक आधार पर निवेश का प्रबंधन करना भी आसान है।

मासिक एसआईपी ही क्यों सही है

Why monthly SIP is right? – चलिए जानते है कि क्या कारण है की मंथली सिप, डेली, और क्वाटरली सिप से बेहतर क्यों है –

1. सभी म्यूचुअल फंड्स द्वारा दैनिक एसआईपी की सुविधा नही दी जाती है, और यही त्रैमासिक एसआईपी के लिए भी सत्य है। इसलिए आपके विकल्प सीमित हैं। मासिक एसआईपी विकल्प लगभग सभी म्युचुअल फंड के साथ उपलब्ध हैं। और यही त्रैमासिक एसआईपी के लिए भी सत्य है।

2. यदि आप लंबे समय में अधिक से अधिक रिटर्न चाहते हैं, तो आपको एसआईपी निवेश में अनुशासित रहने की आवश्यकता है। एसआईपी शुरू करने से पहले अपने एसआईपी के लिए योजना बनाएं।, मासिक SIP आपको अपने खर्चों की योजना बनाने मदद करेगा, ताकि आपके निवेशों से समझौता न हो।

3. अंतिम पहलू करों की गणना है। यदि आप थोड़े समय के लिए निवेश करने की योजना बनाते हैं तो दैनिक एसआईपी कर गणना को और कठिन बना देगा। साथ ही, आपके खाते के विवरण में अधिक प्रविष्टियाँ होंगी जिससे आपके निवेश को ट्रैक करना बहुत मुश्किल होगा।

आप पढ़ रहे है – Mutual Fund SIP kya hai? SIP se Kaise bane amir?

You may also like

Leave a Comment