6 Facts about Ayushman Bharat Digital Mission in Hindi | आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के बारे में जानें

by Neeti Jain
5 mins read
6 Facts about Ayushman Bharat Digital Mission in Hindi

6 Facts about Ayushman Bharat Digital Mission in Hindi | आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के बारे में जानें

Know about Ayushman Bharat Digital Mission in Hindi – प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 सितम्बर 2021, सोमवार को National Digital Health Mission के अंतर्गत आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission) की शुरुआत की, जिसके तहत लोगों को एक डिजिटल स्वास्थ्य आईडी एवं कार्ड प्रदान की जाएगी जिसमें उनके स्वास्थ्य रिकॉर्ड होंगे।

प्रधान मंत्री ने आगे ये भी कहा  इसमें स्वास्थ्य सेवा में क्रांतिकारी बदलाव लाने की क्षमता है। पीएम मोदी ने डिजिटल पहल की सराहना करते हुए कहा

“आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। पिछले 7 सालों में देश की स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने का अभियान आज एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है। यह कोई सामान्य चरण नहीं है। यह एक असाधारण चरण है”

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन क्या है (What is Ayushman Bharat Digital Mission)

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के अंतर्गत भारत देश के प्रत्येक नागरिक की हेल्थ आईडी तैयार की जाएगी और उन्हें यूनिक आईडी कार्ड इशू या जारी किया जायेंगे। इस आईडी कार्ड का फायदा ये होगा की इसमें हर नागरिक की स्वास्थ्य से जुड़ी सारी जानकारी डिजिटल रूप में स्टोर रहेगी।

इसका सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि अगर आप देश के किसी भी कोने में अपने उपचार या इलाज के लिए जाएंगे तो आपको कोई भी जांच रिपोर्ट या डॉक्टर की पर्ची साथ नही रखनी होगी आपकी सारी जानकारी इस यूनिक आईडी के माध्यम से हेल्थ कार्ड में मौजूद रहेगी,  हॉस्पिटल या डॉक्टर सिर्फ आपकी आईडी से ये जान सकेंगे कि आपको पहले कौन सी बीमारी रही है और आपका कहां क्या इलाज हुआ है और आगे कैसे इलाज की जरूरत है

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन कब और कहाँ से शुरू हुआ (When and where did Ayushman Bharat Digital Mission start)

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की घोषणा पीएम मोदी ने पिछले साल 15 अगस्त 2020, स्वतंत्रता दिवस में अपने भाषण के दौरान लाल किले की प्राचीर से की थी। प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) के अनुसार, इसे वर्तमान में छह राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में एक पायलट चरण में लागू किया जा रहा है।

इसका राष्ट्रव्यापी रोल-आउट Ayushman Bharat Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana (AB PM-JAY) की तीसरी वर्षगांठ पर हुआ।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का उद्देश्य (Objective of Ayushman Bharat Digital Mission)

इस मिशन का उद्देश्य डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र के भीतर सूचना-साझाकरण को सक्षम करने के लिए एक सहज ऑनलाइन मंच बनाना है। परियोजना के तीन प्रमुख घटक नागरिकों के लिए एक स्वास्थ्य आईडी, एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर रजिस्ट्री (healthcare professionals registry) और स्वास्थ्य सुविधाओं की रजिस्ट्रियां (healthcare facilities registries) होंगी।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के बारे में (About Ayushman Bharat Digital Mission)

1. मिशन के तहत लोगों को एक यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी प्रदान की जाएगी, जिसमें व्यक्ति के सभी स्वास्थ्य रिकॉर्ड होंगे।

2. राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन के पायलट प्रोजेक्ट की घोषणा पीएम मोदी ने 15 अगस्त, 2020 को लाल किले से अपने स्वतंत्रता दिवस के भाषण के दौरान की थी।

3. वर्तमान में, परियोजना छह केंद्र शासित प्रदेशों में पायलट चरण में लागू की जा रही है। प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) के एक बयान में कहा गया है कि परियोजना का राष्ट्रव्यापी रोलआउट राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) द्वारा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (एबी पीएम-जेएवाई) की तीसरी वर्षगांठ मना रहा है।

4. यह मिशन नागरिकों की सहमति से उनके देशांतरीय स्वास्थ्य रिकॉर्ड तक पहुंच और आदान-प्रदान को सक्षम बनाएगा।

5. परियोजना के प्रमुख घटकों में प्रत्येक नागरिक के लिए एक स्वास्थ्य आईडी शामिल है जो उनके स्वास्थ्य खाते के रूप में भी काम करेगा, जिससे व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड को मोबाइल एप्लिकेशन, एक हेल्थकेयर प्रोफेशनल रजिस्ट्री (HPR) और की मदद से जोड़ा और देखा जा सकता है। हेल्थकेयर सुविधाएं रजिस्ट्रियां (एचएफआर) जो आधुनिक और पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों दोनों में सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के भंडार के रूप में कार्य करेगी। यह भी बताया गया है कि यह डॉक्टरों और अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए पेशेंट्स के साथ कार्य करने में आसानी को सुनिश्चित करेगा।

6. यह मिशन का प्रभाव वैसे ही होगा जैसे पेमेंट के क्षेत्र में यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई/UPI) द्वारा निभाई गई थी, और ये डिजिटल हेल्थ इकोसिस्टम के भीतर एकीकरण का निर्माण करेगा। पीएमओ ने कहा कि नागरिक स्वास्थ्य सुविधाओं तक पहुंचने से केवल एक क्लिक दूर होंगे।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन क्या है? What is the National Digital Health Mission?

यह सरकार द्वारा घोषित किया जा रहा एक डिजिटल स्वास्थ्य इकोसिस्टम (पारिस्थितिकी तंत्र) है जिसके तहत प्रत्येक भारतीय नागरिक के पास अद्वितीय स्वास्थ्य आईडी, डिजीटल स्वास्थ्य रिकॉर्ड के साथ-साथ डॉक्टरों और स्वास्थ्य सुविधाओं की एक रजिस्ट्री होगी।

हेल्थ आईडी क्या है? यह क्या करेगा? What is a Health ID? What will it do?

प्रत्येक नागरिक को एक विशिष्ट स्वास्थ्य आईडी प्रदान की जाएगी जिसमें एक ही आईडी के माध्यम से एक सामान्य डेटाबेस में उनकी बीमारियों, निदान, रिपोर्ट, दवा आदि का विवरण होगा। यह अनिवार्य रूप से उनके सभी स्वास्थ्य रिकॉर्ड का डिजीटल संस्करण होगा। इस डिजिटल डेटाबेस को देशभर के डॉक्टरों और स्वास्थ्य सुविधाओं की रजिस्ट्री से जोड़ा जाएगा।

यह हेल्थ आईडी कैसे काम करेगी? How will this Health ID work?

पीएम मोदी ने कहा कि यह सारी जानकारी डॉक्टर ने जो भी दवा लिखी है, कब लिखी है और रिपोर्ट क्या है, यह सब जानकारी व्यक्ति के हेल्थ आईडी से जुड़ी होगी. यह एक रोगी के लिए एक डिजीटल “स्वस्थ खाता” (स्वास्थ्य पुस्तक) की तरह होगा और इसमें उनके चिकित्सा इतिहास, चिकित्सकों से परामर्श, किए गए परीक्षण आदि का विवरण होगा। स्वास्थ्य आईडी कथित तौर पर एक मोबाइल ऐप के रूप में होगी।

मैं इस आईडी का उपयोग कहां कर सकता हूं? क्या मेरा डेटा सुरक्षित रहेगा? Where can I use this ID? Will my data be protected?

यह आईडी कथित तौर पर राज्यों, अस्पतालों, नैदानिक ​​प्रयोगशालाओं (diagnostic laboratories) और फार्मेसियों में लागू होगी। सरकार ने आश्वासन दिया है कि प्रदान किए गए डेटा को संरक्षित किया जाएगा और स्वास्थ्य रिकॉर्ड केवल एक व्यक्ति द्वारा प्राधिकरण के बाद ही साझा किया जाएगा। इसी तरह, अस्पतालों और डॉक्टरों के लिए ऐप के लिए विवरण प्रदान करना स्वैच्छिक है।

क्या मेरे लिए इस परियोजना में नामांकन करना आवश्यक है? Is it necessary for me to enrol in this project?

नहीं, सरकार ने कहा है कि पहल में नामांकन स्वैच्छिक होगा।

इस परियोजना का उद्देश्य क्या है? What is the aim of this project?

पीएम मोदी ने कहा कि यह परियोजना एक स्वस्थ भारत बनाने के लिए प्रौद्योगिकी की शक्ति का लाभ उठाएगी।

इस परियोजना की पहली बार कब बात की गई थी? When was this project first spoken of?

योजना का खाका कथित तौर पर 2019 में लॉन्च किया गया था, और खुले डिजिटल सिस्टम का लाभ उठाकर सस्ती और उच्च गुणवत्ता वाली स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने की मांग की गई थी।

आपने आज Ayushman Bharat Digital Mission in Hindi के बारे में समझा, हम आगे भी ऐसे योजना से सम्बंधित लेख लाते रहेंगे। तो बने रहिये हमारे साथ अपनीबचत पर और अपने कमेंट्स एंड सुझाव हमारे साथ साझा करिए।

Leave a Comment