Investment

What is Fixed Deposit and their benefits in Hindi

What is Fixed Deposit and their benefits in Hindi

फिक्स्ड डिपाजिट क्या होता है

फिक्स्ड डिपाजिट, जिसमे जमा किया हुआ पैसा/धन एक निश्चित अवधी के लिए फिक्स हो जाता है और एक विशिष्ट अवधि समाप्त होने के बाद ही वापस दिया जाता है| ये देश में सबसे सरल और सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला निवेश उत्पाद है।

फिक्स्ड डिपॉजिट एक निश्चित समय के लिए बैंक डिपॉजिट हैं| जो निवेशक या जमाकर्ता द्वारा एक निश्चित ब्याज दर पर चुने जाते हैं। आप 7 दिन और 10 साल तक की अवधि के लिए पैसा जमा कर सकते हैं।

जब आप बैंक के साथ फिक्स्ड डिपाजिट खोलते हैं तो आप बैंक को पैसा उधार देते हैं और बैंक आपको ब्याज का भुगतान करता है| जैसा कि ब्याज दर और समय अवधि तय होती है, इस निवेश उत्पाद को फिक्स्ड डिपॉजिट कहा जाता है।

सबसे अच्छी बात ये है की अपने देश में डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी स्कीम के तहत किसी भी बैंक में 1 लाख रुपये तक जमा राशी सुरक्षित होती है| प्रत्येक बैंक या वित्तीय संस्थान जो फिक्स्ड डिपॉजिट की सुविधा ग्राहक को दे रहे है, वो फिक्स्ड डिपॉजिट की जमा दरों को निर्धारित करते है। एफडी पर मिलने वाली ब्याज दरें समय-समय पर परिवर्तन हो सकती हैं। जमा राशी पर एफडी की ब्याज दरे, समय और अवधि के आधार पर भिन्न-भिन्न होती है। अधिकांश बैंक वरिष्ठ नागरिकों को उच्च ब्याज दर (0.5% अधिक) प्रदान करते हैं।

फिक्स्ड डिपाजिट काम कैसे करती है?

चलिए समझते है कि फिक्स्ड डिपाजिट काम कैसे करती है-

मान लीजिये अमित ने बैंक में 2 वर्ष के लिए एक लाख रुपये (100000) फिक्स्ड डिपाजिट कराने के लिए जमा किये| जो प्रति वर्ष 9% की दर से ब्याज देता है | तो 2 वर्ष के अंत में अमित को ब्याज के 18000 / – रुपये मिलेंगे। चूँकि 10000 के ऊपर कमाया हुआ ब्याज अमाउंट टैक्सेबल होता है, फिक्स्ड डिपाजिट में इसलिए 20% कर लगाया जाता है मतलब (18000 का 20% हुआ 3600)। तो उस हिसाब से आपको (18000 – 3600) =  14,400 ब्याज के रूप में मिलते है, और टोटल Rs.1,14,400 की शुद्ध राशि मिलती है।

बहुत से लोग इस पैसे को बैंक में ही जमा रहने देते है| कई सालों तक वापस नहीं लेते हैं। तब, यह राशि बैंक विभिन्न प्रकार के ऋणों के रूप में देते हैं – जैसे की कार लोन, होम लोन, पर्सनल एवं बिज़नस लोन आदि और ग्राहकों  से 9% से अधिक दर से ब्याज वसूलते है।

मान लो कि बैंक 12% ब्याज दर पर अमित के दोस्त अजीत को 100000 रु देता हैं, तो 2 वर्ष के अंत में बैंक को 12% की हिसाब से 1,24,000 वापस मिलेंगे ।

इसका मतलब हमारे पैसे को निवेश करके बैंक उस धन से पैसा कमाता है| कैसे 100000 से बैंक ने २ साल में 24000 का मुनाफा कमाया और उस 24000 में से 18000 कस्टमर (ग्राहक) को देकर 6000 का शुद्ध मुनाफा कमा लिया|

लोन के रूप में दी गयी राशि और जमा राशि के बीच का ब्याज बैंक को लाभ देता है। साथ ही बैंक शेयर, बॉन्ड और म्यूचुअल फंड और बीमा कारोबार में निवेश करता है। जिससे बैंक को और अभी अधिक मुनाफा होता है|

हम पढ़ रहे है – Fixed Deposit in Hindi या FD in Hindi

फिक्स्ड डिपाजिट कैसे चुनें, जानने योग्य बाते?

एफडी के लिए आवेदन करने से पहले निम्नलिखित बातों पर ध्यान दे:

भुगतान की गई ब्याज की दर: एफडी स्कीम चुनने से पहले ध्यान रखने वाले सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक ब्याज की दर है जिसका हमे भुगतान किया जाता है। सभी निवेशकों को एफडी ब्याज दरों की तुलना करनी चाहिए और एक अच्छा सौदा चुनना चाहिए।

एफडी प्रदाता की विश्वसनीयता: एफडी के लिए केवल उच्चतम ब्याज दर के साथ आँख बंद करके न जाएं। ऐसे अन्य कारक भी हैं जिन्हें संगठन की विश्वसनीयता की तरह माना जाना चाहिए जो कि एफडी जमा की पेशकश कर रहे हैं। अधिमानतः, ’ए’ रेटेड योजनाओं के लिए जाएं और आईसीआरए और क्रिसिल जैसे संगठनों से रेटिंग पर विचार करें।

एफडी प्रदाता की विश्वसनीयता: एफडी के लिए केवल उच्चतम ब्याज दर के साथ आँख बंद करके न जाएं। ऐसे अन्य कारक भी हैं जिनसे आप संगठन/एफडी  प्रदाता की विश्वसनीयता की पहचान कर सकते| अधिमानतः, ’ए’ रेटेड योजनाओं के लिए जाएं और आईसीआरए और क्रिसिल जैसे संगठनों से रेटिंग पर विचार करें।

कार्यकाल: एक अन्य कारक जो आपके निवेश की वापसी की दर निर्धारित करता है वह अवधि है जिसके लिए निवेश आयोजित किया जाता है।

ब्याज चक्रवृद्धि आवृत्ति: पता लगाएं कि आपके निवेश पर ब्याज की गणना कैसे की जाती है। यदि आप अपने द्वारा अर्जित ब्याज पर लगाम लगाने का विकल्प चुनते हैं, तो निवेश पर कुल रिटर्न बहुत अधिक होगा।

ब्याज भुगतान विकल्प: देखें कि क्या आप जिस एफडी में निवेश कर रहे हैं, वह आपको कई तरह के ब्याज भुगतान विकल्प देता है। ब्याज भुगतान कीआवृत्ति पर एक नज़र डालें। ज्यादातर मामलों में भुगतान मासिक, त्रैमासिक, वार्षिक या अर्धवार्षिक रूप से किए जाते हैं।

जुर्माना दर: एफडी में अपना पैसा डालने से पहले जांच करने के लिए दूसरी बात यह है कि क्या आप अपनी जमा राशि को समय से पहले तोड़ना चाहते हैं, तो कोई शुल्क नहीं है।

फिक्स्ड डिपाजिट और ब्याज दरें

जब आप बैंक के साथ एफडी खोलते हैं तो आप बैंक को पैसा उधार देते हैं और यह आपको ब्याज का भुगतान करता है। फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज का भुगतान दो तरीकों से किया जा सकता है:

• ब्याज का भुगतान मासिक आधार पर या त्रैमासिक आधार पर किया जा सकता है जिसे पारंपरिक योजना कहा जाता है

• रि-इन्वेस्टमेंट योजना या क्यूमिलेटिव फिक्स्ड डिपॉजिट, जहां ब्याज को तिमाही आधार पर मूल राशि में मिलाया जाता है और ब्याज को एफडी जमा में रि-इन्वेस्ट किया जाता है। इसलिए, प्रत्येक तिमाही के बाद मूल राशि पिछली तिमाही में ब्याज के रूप में अर्जित राशि से बढ़ जाती है। ब्याज के साथ निवेशित राशि केवल परिपक्वता पर उपलब्ध है

एफडी पर ब्याज = (मेंच्युरीटी) परिपक्वता मूल्य – प्रिंसिपल।

फिक्स्ड डिपाजिट पर टैक्स

बैंक एफडी और आरडी से अर्जित ब्याज पर टैक्स व्यक्ति के आयकर स्लैब के अनुसार लगाता है| उदाहरण के लिए, 10 लाख से अधिक वार्षिक आय वाले व्यक्ति को हर साल, अर्जित एफडी ब्याज पर 30% आयकर का भुगतान करना होगा।

टैक्स डिडक्टेड एट सोर्स, टीडीएस (स्रोत पर कर कटौती) बैंकों को आपके फिक्स्ड डिपॉजिट से अर्जित ब्याज पर कटौती करना आवश्यक है। टीडीएस का उद्देश्य कर संग्रह की प्रक्रिया को आसान बनाना है और निम्नलिखित दरें लागू होती हैं:

फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज पर व्यक्ति के टैक्स स्लैब के आधार पर टैक्स लगाया जाता है। इसका मतलब यह है कि अगर आप 20% या 30% टैक्स स्लैब में आते हैं, तो आपको बैंक द्वारा वसूले गए टीडीएस के अतिरिक्त अतिरिक्त कर चुकाना होगा। यदि आपकी आय 2.5 लाख से कम है, तो आप फॉर्म 15G को बैंक में जमा कर सकते हैं जो उन्हें एफडी ब्याज पर टीडीएस काटने से रोकता है। 15G उन लोगों के लिए है जिनकी आयु 60 वर्ष से कम है, फॉर्म 15H का उपयोग वरिष्ठ नागरिकों द्वारा किया जा सकता है।

निम्नलिखित दरें लागू होती हैं:

 इन्वेस्टर स्टेटस  टी डी एस रेट्स
 PAN number बैंक में जमा है 10%
 PAN number बैंक में जमा नहीं है 20%
 एफ डी NRI ने ले रखी है30%

उदाहरण:

सारांश ने 1 अप्रैल 2016 को 7% ब्याज दर पर 2 साल की बैंक FD में 10 लाख का निवेश किये है। 2016-17 में सारांश की वार्षिक आय ₹ 10 लाख से अधिक थी। सारांश वित्त वर्ष 2016-17 में एफडी से ब्याज के रूप में 70,000 कमाए। इस प्रकार, वह इस 70,000 पर 30% के हिसाब से 21,000 आयकर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी है। बैंक टीडीएस के रूप में 10% यानी 7,000 डीडक्ट करता है| जबकि सारांश को आयकर के रूप में अतिरिक्त 14,000 का भुगतान साल के अंत में टैक्स फाइल करते समय करना पड़ेगा। इस प्रकार इस टैक्स इयर (कर वर्ष) के लिए सारांश की शुद्ध ब्याज आय घटकर 70,000 – 21,000 = 49,000 हो जाएगी। मतलब प्रभावी वापसी दर 4.9% रह  जाती है।

फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट की विशेषताएं

FD जमा खाते की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं: –

1. एफडी जमा खाते का मुख्य उद्देश्य व्यक्तियों को उनके अतिरिक्त धन पर अधिक ब्याज दर अर्जित करने में सक्षम बनाना है।

2. एफडी जमा खाते में राशि केवल एक बार जमा की जा सकती है। आगे ऐसे डिपॉजिट्स (जमाओं) के लिए, अलग खाते खोलने की आवश्यकता है।

3. एफडी जमा की अवधि 15 दिन से 10 वर्ष के बीच होती है।

4. एफडी जमा पर उच्च ब्याज दर का भुगतान किया जाता है। ब्याज की दर राशि, अवधि और बैंक से बैंक के अनुसार भिन्न हो सकती है।

5. एफडी में निकासी की अनुमति नहीं है। हालांकि, आपातकाल के मामले में, बैंक मेंच्युरीटी (परिपक्वता) तिथि से पहले निर्धारित खाते को बंद करने की अनुमति देते हैं। ऐसे मामलों में, बैंक उस तिथि पर देय ब्याज से 1% (कटौती प्रतिशत कई भिन्न) काटता है।

6. जमाकर्ता को एक निश्चित जमा रसीद दी जाती है, जिसे जमाकर्ता को मेंच्युरीटी (परिपक्वता) के समय बैंक में शो (दिखाना) होता है। जमा को आगे की अवधि के लिए नवीनीकृत किया जा सकता है।

एफडी कैसे खोलें?

बैंक ब्रांच जहां आपके पास सेविंग्स अकाउंट (बचत खाता) है, आप इंटरनेट बैंकिंग, फोन बैंकिंग के माध्यम से एफडी जमा खोल सकते हैं या आप चेक के साथ बैंक ब्रांच में जा कर एफडी जमा खोल सकते हैं।

आप किसी भी बैंक में बिना सेविंग्स एकाउंट्स के भी एफडी खोल सकते हैं| जब आप बिना इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से मतलब मैन्युअली बैंक ब्रांच जा कर एफडी खोलते तब आपको एफडी की रसीद मिलती है। और यदि फिक्स्ड डिपॉजिट रसीद नहीं दी जाती है, तो इसे ग्राहक को अनुरोध पर उपलब्ध कराया जा सकता है।

एफडी का समय से पहले बंद होना

यदि आपको पैसे की आवश्यकता हो या आप उच्च दरों पर (रि-इन्वेस्ट) पुनर्निवेश करना चाहते हैं तो फिक्स्ड डिपॉजिट एफडी अपने टेन्योर (अवधि) से पहले बंद हो सकता है। फिक्स्ड डिपॉजिट की स्थिति में डिपॉजिट की मूल अवधि पूरी करने से पहले बंद होने की स्थिति में, जमा की तारीख पर लागू होने वाली दर पर ब्याज का भुगतान करना होगा, जिसके लिए डिपॉजिट बैंक के पास रहा है। समय से पहले निकासी के मामले में जमा की तारीख के अनुसार बैंक द्वारा निर्धारित ब्याज की दंड दर के अधीन हो सकता है

एफडी की परिपक्वता पर

अपने एफडी की परिपक्वता के बाद, आप देश भर में बैंक की किसी भी शाखा में जा सकते हैं और अपनी एफडी जमा रसीद जमा करके अपनी जमा राशि का दावा कर सकते हैं। यदि आपका बैंक में खाता है और आपने ऑटो-रिन्यूअल का विकल्प नहीं चुना है, तो पैसा आपके बचत बैंक खाते में जमा हो जाता है। ऑटो रिन्यूअल आपके एफडी को मूल जमा के समान अवधि के लिए ऑटोमेटिकली रूप से री-न्यू करने की फेसीलीटी देता है।

एफडी खाते के लाभ

एफडी जमा खाते के लाभ इस प्रकार हैं: –

1. एफडी जमा समय की लंबी अवधि के लिए बचत की आदत को प्रोत्साहित करता है।

2. एफडी जमा खाता जमाकर्ता को उच्च ब्याज दर अर्जित करने में सक्षम बनाता है।

3. जमाकर्ता को बैंक से ऋण की सुविधा मिल सकती है।

4. परिपक्वता पर राशि का उपयोग परिसंपत्तियों की खरीद करने के लिए किया जा सकता है।

5. बैंक को लंबी अवधि के लिए राशि मिल सकती है।

6. बैंक व्यवसायियों को अल्पकालिक ऋण के लिए इस तरह के फंड को उधार दे सकते हैं।

7. एफडी जमा देश के आर्थिक विकास को अप्रत्यक्ष रूप से बढ़ावा देता है।8. बैंक इस तरह के फंड को लाभदायक क्षेत्रों में भी निवेश कर सकते हैं।

इस पोस्ट में हमने ये समझा की की फिक्स्ड डिपाजिट या एफडी क्या है कैसे ये आपके धन को सुरक्षित रूप से बढ़ाने में मदद करता है| अगली पोस्ट में हम क्रम में दुसरे निवेश के तरीके, रेकरिंग डिपाजिट या आरडी क्या है, ये कैसे काम करता है और इसके क्या लाभ है? ये समझेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *