Arbitrage Funds Meaning in Hindi | What are Arbitrage Funds 2021

by Rahul Gupta
5 mins read
What are Arbitrage Funds 2021 in Hindi Arbitrage Funds Kya Hai

Arbitrage Funds Meaning in Hindi, What are Arbitrage Funds 2021 Arbitrage Funds Kya Hai?

Arbitrage Funds Meaning in Hindi – दोस्तों हमने म्यूच्यूअल फण्ड के बहुत से टाइप देखे है, जो सभी कुछ न कुछ खासियत लिए हुए है, आज हम उसी श्रंखला के देखेंगे आर्बिट्राज फंड्स के बारे में।

आर्बिट्राज फंड्स म्यूच्यूअल फंड्स का एक टाइप या प्रकार है। जिसे हम हाइब्रिड म्यूच्यूअल फंड के नाम से जानते है। चलिए सबसे पहले जानते है की Arbitrage क्या होता है?

Arbitrage क्या होता है? (What is Arbitrage)

शेयर मार्किट की भाषा में आर्बिट्राज एक ही समय में दो अलग अलग बाज़ार में किसी सिक्योरिटी या स्टॉक्स के अलग अलग दामों के बीच के अंतर का फायदा उठाना आर्बिट्राज कहलाता है।

Arbitrage funds क्या होते है? (What are Arbitrage funds)

आर्बिट्रेज फंड हाइब्रिड म्यूचुअल फंड हैं जो रिटर्न उत्पन्न करने के लिए अलग-अलग बाजारों में प्रतिभूतियों की अलग-अलग कीमतों का लाभ उठाने के लिए, प्रतिभूतियों की एक साथ खरीद और बिक्री की रणनीति का उपयोग करते हैं।

यहाँ अलग अलग बाजारों से तात्पर्य NSE/BSE या कैश/फ्यूचर मार्किट हो सकता है। प्रतिभूतियों से मतलब सिक्योरिटी/स्टॉक्स से है।

आर्बिट्राज फंड्स में ज्यादातर पैसा किसी स्कीम या शेयर्स पर सीधा निवेश नहीं किया जाता। बल्कि निवेशक के धन को फंड मैनेजर द्वारा खोजे गए Arbitrage के अवसरों पर लगा कर कमाया जाता है।

आर्बिट्रेज एक ही सिक्यूरिटी/स्टॉक या इसके डेरिवेटिव को विभिन्न बाजार क्षेत्रों में एक साथ खरीद और बेच कर जोखिम मुक्त लाभ कमाने को बोलते है।यदि एक ही वस्तु की कीमत अलग-अलग बाजारों में अलग-अलग है, तो आप उस वस्तु को कम कीमत वाले बाजार में खरीदकर ज्यादा कीमत वाले बाजार में बेचकर जोखिम मुक्त लाभ कमा सकते हैं। महत्वपूर्ण यह है कि खरीद और बिक्री दोनों लेनदेन एक साथ एक्सीक्यूट/निष्पादित किए जायें ताकि आप मुनाफे को लॉक-इन कर सकें और रिस्क फ्री रहे। चूंकि आर्बिट्राजर्स का लक्ष्य जोखिम मुक्त मुनाफा बनाना है, इसलिए खरीद और बिक्री की स्थिति पूरी तरह से (100%) हेज की जाती है।

आर्बिट्राज फंड कैसे काम करता है? (How Arbitrage Fund Works)

आइए उन तीन संभावित परिदृश्यों को देखें जहां आर्बिट्राज/मध्यस्थता के अवसर मौजूद हैं:

Scenario # 1:  एक्सचेंजों के बीच मूल्य अंतर/ Exchange arbitrage/Price difference between exchanges

मान ले की ABC लिमिटेड कंपनी का शेयर एमपी स्टॉक एक्सचेंज (MPSE) पर 1000 रुपये पर ट्रेड हो रहा है, और यही शेयर यूपी स्टॉक एक्सचेंज (UPSE) पर 1010 प्रति शेयर पर ट्रेड हो रहा है। इसी मौके का फायदा आर्बिट्राज फंड के फंड मैनेजर उठाते है, वह एमपी स्टॉक एक्सचेंज से शेयर खरीदते है और उसी समय उन्हें यूपी स्टॉक एक्सचेंज पर बेच देते है। इससे फंड बिना जोखिम के बहुत ही कम समय में 10 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से लाभ कमा लेते है।

Scenario #2: नकद और वायदा बाजार आर्बिट्रेज – नकद और वायदा बाजारों के बीच मूल्य अंतर/Cash and carry arbitrage – Price difference between the cash and futures markets –  मान लेते है कि XYZ लिमिटेड  कंपनी का शेयर रुपये 1000 पर कैश मार्किट (नकद बाजार) पर ट्रेड कर रहा है। और इसी शेयर की कीमत वायदा बाजार (futures market) में 1015 रुपये है. इसी मौके का फायदा आर्बिट्राज फंड के फंड मैनेजर उठा कर फंड मैनेजर नकद बाजार से शेयर खरीदते है और शेयरों को महीने के अंत में रुपये 1015 में बेचने के लिए एक वायदा अनुबंध बना लेते है। जिसे वायदा बाजार में बेच कर आर्बिट्राज फंड बिना जोखिम के 15 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से लाभ कमा लेते है।

Scenario #3: सूचकांक और स्टॉक आर्बिट्रेज का बास्केट/Index and basket of stocks arbitrage – यह लगभग नकद और वायदा बाजार आर्बिट्रेज के समान है ‒ केवल अंतर यह है कि यहां एक स्टॉक के बजाय आर्बिट्रेज इंडेक्स के लिए होता है। उदाहरण के लिए, निफ्टी F&O बाजार में 9,300 रुपये पर कारोबार कर रहा है, जबकि लगभग बराबर मूल्य के स्टॉक के बास्केट जिसमे निफ्टी (सूचकांक के समान अनुपात में) के समान शेयर हो, नकद बाजार में 9275 रुपये पर कारोबार कर रहा है । आप यहाँ पर इसे बेच कर 25 रुपये को शुद्ध मुनाफा कमा सकते है।

आर्बिट्रेज म्यूचुअल फंड में किसे निवेश करना चाहिए? (Who should invest in Arbitrage Mutual Funds)

आपको जानकर ख़ुशी होगी कि आर्बिट्राज फंड का रिस्क प्रोफाइल डेट फंड की तरह ही होता है। विभिन्न आर्बिट्राज फंड, उनके फंड के लिए बेंचमार्क के रूप में लिक्विड फंड इंडेक्स का उपयोग करते है। आर्बिट्राज फंड उन निवेशकों के लिए आदर्श हैं जो इक्विटी में निवेश करना चाहते हैं लेकिन जोखिम नहीं उठाना चाहते हैं। उतार-चढ़ाव वाले बाजार में, कई निवेशक जो जोखिम से बचते हैं, वे अपना पैसा आर्बिट्राज फंड में लगा सकते हैं और अच्छा रिटर्न कमा सकते हैं।

आप पढ़ रहे है – Arbitrage Funds Meaning in Hindi

आर्बिट्राज फंड के लाभ/फायदे (Advantage of Arbitrage Funds)

Benefits of Investing in Arbitrage Funds – आर्बिट्राज फंड्स में निवेश के निम्नलिखित  लाभ या फायदे है – 

 1. रिस्क/जोखिम/Risk – आर्बिट्राज अवसर फंड में निवेश का प्रमुख लाभ – इन फंडों में कम जोखिम का होनाम इनमे बहुत कम जोखिम होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि फंड मेनेजर प्रतिभूतियों को लगभग तुरंत खरीदते और बेचते हैं, जिससे इसमें दीर्घकालिक निवेश का कोई जोखिम नहीं होता है।

संपत्ति/एसेट का एक हिस्सा debt securities में निवेश किया जाता है, जिससे यह एक स्थिर निवेश विकल्प बन जाता है। जब पोर्टफोलियो मैनेजर को बाजार में निवेश के कोई अवसर नहीं मिलते हैं, तो  वह asset allocation  परिसंपत्ति आवंटन मुख्य रूप से debt securities (ऋण प्रतिभूतियों) की तरफ करते है, जो इसे कम जोखिम वाले निवेश के लिए आदर्श बनाता है। इसलिए, निवेशको को अपने वित्तीय लक्ष्यों को फंड के उद्देश्य के साथ संरेखित/मिलान करना चाहिए और निवेश करने के लिए सही आर्बिट्राज फंड खोजना चाहिए।

2. अस्थिरता/Volatility – जैसे की हम जानते है कि अस्थिर बाजार से अधिकतर निवेशक डरते है क्यूंकि निवेश के लिए इसे आदर्श नही मन सकते हैं। लेकिन जब आर्बिट्राज फंड की बात आती है तो इस अस्थिरता एक वरदान मान सकते है।

जब बाजार में उतार-चढ़ाव होता है, तो हाजिर (कैश) और वायदा (फ्यूचर) बाजार के बीच कीमत का अंतर अनिश्चित हो सकता है। लोग अनिश्चित होंगे, की इस समय खरीदना या बेचना चाहिए, जिसके कारण बाजार और अधिक अस्थिर बन सकता है। जब मार्किट सामान्य या शांत होता है तो किसी को विश्वास नहीं होगा कि कीमतों में अंतर ज्यादा होगा। इसलिए बाजार में ज्यादा या अस्थिरता नहीं होती है। बाजार में अस्थिरता बाजार को ऊपर और नीचे चला सकती है। इस प्रकार, यह भारी लाभ या हानि का कारण बनता है।

सही अवसर की पहचान कर निवेशक इस स्थिति का लाभ उठा सकते हैं। आर्बिट्राज फंड मैनेजर महत्वपूर्ण रिटर्न कमाने के लिए ऐसा करते हैं। अस्थिर बाजारों में निवेश करने के लिए आर्बिट्राज अवसर फंड सबसे अच्छा फंड है।

3. इक्विटी फंड जैसा टैक्स संरचना/Taxed as equity funds – आर्बिट्राज फंड एक हाइब्रिड फंड है। हालांकि, इस हाइब्रिड फंड पर बिल्कुल इक्विटी म्यूचुअल फंड की तरह टैक्स लगता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि परिसंपत्ति आवंटन ऐसा है कि कम से कम 65% संपत्ति लंबी इक्विटी में निवेश की जाती है। इसलिए, कराधान इक्विटी फंड के समान है, जो शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन के लिए 15% और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (INR 1 लाख से ऊपर) के लिए 10% है। यह कर दर उन निवेशकों के लिए आयकर स्लैब दर से काफी कम है जो INR 2,50,000 और उससे अधिक के अंतर्गत आते हैं।

 4. बैलेंस्ड पोर्टफोलियो/Balanced Portfolio – आर्बिट्राज फंड बैलेंस्ड फंड होते हैं। वे अपने कॉर्पस का 30-35% डेट इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश करते हैं। वे शून्य कूपन बांड, ट्रेजरी बिल, एएए रेटेड बांड आदि में निवेश करते हैं। इन उपकरणों में शून्य जोखिम होता है। इसलिए आर्बिट्राज फंड डेट इंस्ट्रूमेंट्स का उपयोग करके इक्विटी जोखिम को संतुलित करने में सक्षम हैं।

आप पढ़ रहे है – Arbitrage Funds Meaning in Hindi

आर्बिट्राज फंड के नुकसान (Disadvantages of Arbitrage Funds)

आर्बिट्राज फंड्स में निवेश के निम्नलिखित नुकसान है – 

1. स्थिर बाजार के दौरान औसत प्रदर्शन/Average Performance during stable market – स्थिर बाजार के दौरान औसत प्रदर्शन: जैसा की हम जानते है अस्थिर बाजारों के दौरान ही आर्बिट्रेज के अच्छे अवसर पैदा होते हैं। स्थिर बाजारों के दौरान, आर्बिट्राज फंड खराब प्रदर्शन करते हैं। ऐसे मामलों में, फंड अपने आवंटन को डेब्ट सिक्योरिटीज या बांड में बढ़ाते  है, जिससे समग्र पोर्टफोलियो का रिटर्न कम हो जाता है।

2. लिक्विड’ फंड श्रेणी में औसत रिटर्न/Average Returns in ‘Liquid’ fund category –  आर्बिट्रेज फंड को लिक्विड और अल्ट्रा-शॉर्ट टर्म फंड का विकल्प माना जाता है। हालांकि उनका दीर्घकालिक प्रदर्शन लिक्विड और अल्ट्रा-शॉर्ट टर्म फंड की तुलना में उतना अच्छा नही  है।

3. उच्च मंथन अनुपात और व्यय अनुपात/High Churning Ratio & Expense Ratio – एक आर्बिट्राज फंड लगातार स्टॉक खरीद और बेच रहे होते है। इसलिए इनका churn ratio ज्यादा होता है। एक उच्च churn ratio सीधे expense ratio को प्रभावित करता है और इसे बढ़ाता है जिससे फंड की NAV शुद्ध संपत्ति मूल्य (एनएवी) घट जाती है। निवेशकों को फंड के expense ratio पर नजर रखनी चाहिए क्योंकि वे फंड के मुनाफे (शुद्ध संपत्ति मूल्य) को प्रभावित करके कम कर देते हैं।

आप पढ़ रहे है – Arbitrage Funds Meaning in Hindi

निवेशक के रूप में विचार करने योग्य बातें (Things to consider as an Investor)

Things to consider as an Investor – किसी भी म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने से पहले निवेशक को निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए –

1.जोखिम कारक/Risk Factor – इन फंडों में कोई प्रतिपक्ष जोखिम शामिल नहीं होता है जैसा कि स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेड  में होता है।  यहां तक ​​​​कि जब फंड मैनेजर नकद/cash और वायदा/future बाजार में शेयर खरीद और बेच रहे होते है, तब भी इनका इक्विटी में कोई एक्सपोजर नहीं होता है जैसा कि अन्य डायवर्सिफाइड इक्विटी म्यूचुअल फंड के मामले में होता है। इन सबके चलते निवेश की यात्रा आसान लगती है, लेकिन हमे इन funds के मामले में थोडा सतर्क होना जरूरी हैइन फंडों के साथ ज्यादा सहज न हों।

जैसे-जैसे अधिक लोग आर्बिट्राज फंडों में व्यापार करना शुरू करेंगे, वैसे-वैसे आर्बिट्राज के कई अवसर उपलब्ध कम या नही के बराबर होंगे। नकदी और वायदा बाजार की कीमतों के बीच का अंतर कम हो जाएगा, जिससे आर्बिट्राज केंद्रित निवेशकों के लिए बहुत कम opportunity बचेगी। ऐसे में आपको बेहतर रिटर्न कमाने के लिए दूसरे तरह के डेट फंडों में निवेश करना पड़ सकता है।

2. रिटर्न/Returns – आर्बिट्राज फंड उन लोगों के लिए उचित लाभ अर्जित करने का एक उत्कृष्ट विकल्प है जो इसे समझते हैं और फिर इसका अधिकतम लाभ उठाते हैं। फंड मैनेजर बाजारों में मूल्य अंतर का उपयोग करके अल्फा उत्पन्न करने का प्रयास करता है। ऐतिहासिक रूप से, आर्बिट्राज फंड पांच साल से दस साल में 7% से 8% की सीमा में रिटर्न देने के लिए जाने जाते हैं। यदि आप एक ऐसे पोर्टफोलियो के माध्यम से मध्यम रिटर्न अर्जित करना चाहते हैं जिसमें एक अस्थिर बाजार में ऋण और इक्विटी का सही मिश्रण है, तो आर्बिट्राज फंड आपके लिए उपयुक्त हैं। हालांकि, यह ध्यान रखना आवश्यक है कि आर्बिट्राज फंड में कोई गारंटीकृत रिटर्न नहीं है।

3. निवेश की लागत/Investment Cost – आर्बिट्राज फंड का मूल्यांकन करते समय निवेश की लागत भी एक महत्वपूर्ण कारक होता है। आपको पता हो कि ये फंड एक वार्षिक शुल्क लेते हैं जिसे व्यय अनुपात या expense ratio कहा जाता है, जो कि फंड की कुल संपत्ति का कुछ प्रतिशत होता है। expense ratio में फंड मैनेजर का शुल्क और फंड प्रबंधन शुल्क शामिल होते हैं। बार-बार व्यापार करने के कारण, आर्बिट्राज फंडों में पर्याप्त लेनदेन लागत (transaction costs) और उच्च टर्नओवर अनुपात (turnover ratio) होगा।

4. निवेश क्षितिज/Investment Horizon – आर्बिट्राज फंड उन निवेशकों के लिए उपयुक्त हो सकते हैं जिनके पास 3 साल से 5 साल की छोटी से मध्यम अवधि की अवधि है निवेश के लिए। चूंकि ये फंड एग्जिट लोड चार्ज करते हैं, आप उन पर तभी विचार करे, जब आप कम से कम 3-6 महीने के लिए निवेशित रहने के लिए तैयार हों।

कृपया समझें कि फंड का रिटर्न उच्च अस्थिरता के अस्तित्व पर अत्यधिक निर्भर होता है। इसलिए, एकमुश्त निवेश चुनना व्यवस्थित निवेश योजनाओं (एसआईपी) पर समझ में आता है। अस्थिरता की अनुपस्थिति में, लिक्विड फंड समान निवेश क्षितिज पर आर्बिट्राज फंड की तुलना में बेहतर रिटर्न प्रदान कर सकते हैं। इसलिए, यह सबसे अच्छा होगा यदि आप आर्बिट्राज फंड चुनते समय समग्र बाजार परिदृश्य को ध्यान में रखते हैं।

5. वित्तीय लक्ष्यों/Financial Goal – अगर आपके पास छोटे से मध्यम अवधि के वित्तीय लक्ष्य हैं, तो आर्बिट्राज फंड उपयुक्त हैं। एक नियमित बचत बैंक खाते के बजाय, आप इन निधियों का उपयोग आपातकालीन निधि बनाने और उन पर अधिक रिटर्न अर्जित करने के लिए अतिरिक्त धन को पार्क करने के लिए कर सकते हैं।

यदि आप पहले से ही इक्विटी फंड जैसे जोखिम भरे विकल्पों में निवेश कर चुके हैं, तो आप अपने वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के करीब आते ही इक्विटी फंड से कम जोखिम वाले आश्रय जैसे आर्बिट्राज फंड में एक व्यवस्थित हस्तांतरण योजना (एसटीपी) शुरू कर सकते हैं। यह न केवल आपके पोर्टफोलियो के समग्र जोखिम को कम करेगा बल्कि साथ ही साथ रिटर्न को भी कम करेगा। आप आर्बिट्राज फंड में दोहरे अंकों में रिटर्न अर्जित करने की उम्मीद नहीं कर सकते।

6.लाभ पर कर /Tax on Gains Earned – इन फंडों को कराधान के लिए इक्विटी फंड के रूप में माना जाता है। यदि आप एक वर्ष से कम समय के लिए निवेशित रहते हैं, तो आप अल्पकालिक पूंजीगत लाभ (STCG) प्राप्त करते हैं जो कर योग्य हैं। STCG पर 15% की दर से टैक्स लगता है। यदि आप एक वर्ष से अधिक समय तक निवेशित रहते हैं, तो लाभ को दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (LTCG) माना जाएगा। इंडेक्सेशन के लाभ के बिना सालाना 1 लाख रुपये से अधिक एलटीसीजी पर 10% की दर से कर लगाया जाता है। शुद्ध डेट फंडों से चिपके रहने के बजाय, ये फंड रूढ़िवादी निवेशकों के लिए उपयुक्त हैं जो कर-कुशल रिटर्न अर्जित करने के लिए उच्च कर ब्रैकेट में हैं।

क्या आर्बिट्राज फंड सुरक्षित है? (Are Arbitrage Funds Safe)

Are Arbitrage Funds Safe – ज्यादातर मामलों में, आर्बिट्राज फंड में बहुत कम जोखिम होता है। इसका कारण यह है कि फंड मैनेजर हाजिर बाजार में खरीदारी करके, उसी संपत्ति को वायदा बाजार में बेचकर लाभ कमा कर एक अच्छी स्थिति ग्रहण करने की कोशिश करते हैं। बाजार की अस्थिरता फंड की निवेश स्थिति पर कोई खास जोखिम नहीं डालती है। आर्बिट्राज के अवसर केवल अनिश्चित और अस्थिर बाजार स्थितियों के दौरान ही उपलब्ध होते हैं। दूसरी ओर, यदि आप अनिश्चित बाजार के रुझान के दौरान अधिक तरलता के साथ निवेश करना चाहते हैं, तो आप को एसआईपी के तरीके को आजमाना चाहिए।

हालांकि, फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट की समाप्ति तिथि से पहले अगर फंड को बाहर/redeem करते है तो इसमें कुछ जोखिम हो सकता है। यह redeem या अन्य कारकों में वृद्धि के कारण आवश्यक हो सकता है।

यह समझने के बाद कि आर्बिट्राज फंड क्या हैं, यह महत्वपूर्ण है कि आप निवेश का निर्णय लेने से पहले अपनी आवश्यकताओं और कर देयता का आकलन करें। इसके अलावा, सही विकल्प बनाने के लिए विभिन्न उपलब्ध विकल्पों का मूल्यांकन करें।

यदि आपके पास इस तरह के विश्लेषण के लिए विशेषज्ञता नहीं है, तो किसी ऑनलाइन प्लेटफार्म में विशेषज्ञ की मदद ले सकते है।

आप पढ़ रहे है – Arbitrage Funds Meaning in Hindi

आर्बिट्रेज म्यूचुअल फंड का टैक्स/कराधान (Tax on Arbitrage Funds)

Tax on Arbitrage Mutual Funds – जैसा की हमने देखा कि अगर देखा जाये तो आर्बिट्राज फंड इक्विटी म्यूचुअल फंड ही हैं। इसलिए इन पर टैक्स/कर इक्विटी फंड पर टैक्स के समान है। इक्विटी आर्बिट्राज फंड पर कर इस प्रकार है –

निवेश अवधि
Investment Period
लाभ की राशि
Amount of gain
कौन सा टैक्स लगेगा
Nature of tax
कर की दर
Rate of tax
अगर 12 महीने से कम होतो कोई भी राशि STCG 15%
अगर 12 महीने से ज्यादा होतो राशि 1 लाख से कम हो LTCG

कर मुक्त 

अगर 12 महीने से ज्यादा होतो राशि 1 लाख से ज्यादा हो LTCG

1 लाख से अधिक लाभ का 10%

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

Arbitrage क्या होता है ? What is Arbitrage Opportunities?

शेयर मार्किट की भाषा में आर्बिट्राज एक ही समय में दो अलग अलग बाज़ार में किसी सिक्योरिटी या स्टॉक्स के अलग अलग दामों के बीच के अंतर का फायदा उठाना आर्बिट्राज कहलाता है।

Arbitrage funds क्या होते है? What are Arbitrage Funds 2021 in Hindi

आर्बिट्रेज फंड हाइब्रिड म्यूचुअल फंड हैं जो रिटर्न उत्पन्न करने के लिए अलग-अलग बाजारों में प्रतिभूतियों की अलग-अलग कीमतों का लाभ उठाने के लिए, प्रतिभूतियों की एक साथ खरीद और बिक्री की रणनीति का उपयोग करते हैं।

क्या आर्बिट्राज फंड टैक्स कुशल/एफ़ीशिएंट हैं? Are arbitrage funds tax efficient?

नहीं, आर्बिट्राज फंड कर कुशल/एफ़ीशिएंट नहीं हैं। टैक्स बचाने के लिए, इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस) म्यूचुअल फंड या अन्य उपकरणों में निवेश करना ज्यादा सही विकल्प है जो धारा 80 सी कटौती के लिए मान्यता प्राप्त हैं। इक्विटी एक्सपोजर के साथ टैक्स बचत के लिए निवेशक ईएलएसएस म्यूचुअल फंड चुन सकते हैं। हालांकि, म्यूचुअल फंड निवेश बाजार जोखिमों के अधीन है। इसलिए निवेशकों को उन फंडों के साथ आगे बढ़ना चाहिए जो उनके वित्तीय लक्ष्यों के अनुकूल हों।

क्या आर्बिट्राज फंड किसी दिन नकारात्मक रिटर्न दे सकते हैं? (Can Arbitrage Funds generate negative returns on a given day? )

हां – आर्बिट्राज फंड अपने एनएवी में थोड़ी गिरावट का अनुभव कर सकते हैं। हालांकि, उनके पोर्टफोलियो की कम से कम आर्बिट्रेज स्थिति के लिए नकद इक्विटी और उनके फ्यूचर्स अनुबंधों में मिलान की स्थिति के रूप में अंतर्निहित सुरक्षा तंत्र के कारण वे जल्द ही नकारात्मक रिटर्न से वापस उभर जाते हैं।

आज हमने Arbitrage Funds Meaning in Hindi आर्टिकल पर चर्चा की, आगे हम म्यूच्यूअल फंड के और भी रोचक टॉपिक आपके लिए लाते रहेंगे । आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमे बताएं। हमे आपके सुझाव एवं कमेंट्स का इंतज़ार रहेगा। बने रहिये apneebachat.com पर।

You may also like

Leave a Comment