Bank me Deposit kitna Paisa Secure hai?

by team apneebachat
Bank me Deposit kitna Paisa Secure hai

Bank me Deposit kitna Paisa Secure hai? – आज हर कोई चाहे नौकरी करने वाला हो या व्यवसाय करने वाला, बचे हुए पैसो को invest करेगा या फिर बैंक में जमा करेगा, जिससे कभी भी समय जरुरत पड़ने पर तुरंत बैंक से या ATM की मदद से पैसा निकाला जा सके। लेकिन आज के परिद्रश्य में कभी कभी मन में ये भी आता है कि क्या हमारा जमा किया हुआ धन बैंक में सुरक्षित है?

पीएमसी सहकारी बैंक के बाद यस बैंक में आए संकट के मद्देनजर अन्य बैंकों के खाताधारक भी सेविंग, एफडी और रेकरिंग डिपॉजिट (आरडी) खातों में जमा धनराशि को लेकर आशंकित हैं। लेकिन खाताधारकों को बैंक खातों में जमा राशि को लेकर ज्यादा चिंतित होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि जमाराशि की सुरक्षा के लिए डिपॉजिट इंश्योरेंस स्कीम है। आज बात इसी स्कीम की:

Scheme Kya Hai?

क्या है स्कीम? – इसके तहत प्रत्येक जमाकर्ता को अधिकतम 5 लाख रु तक की जमा राशि पर बीमा कवर मिलता है। यह कवर आरबीआई की सहायक डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (डीआईसीजीसी) द्वारा दिया जाता है।

इसका मतलब यह है कि अगर किसी वजह से कोई बैंक डूब जाए या दिवालिया हो जाए अथवा बैंक का लाइसेंस रद्द हो जाए तो उस स्थिति में प्रत्येक जमाकर्ता को उस बैंक में जमाराशि या 5 लाख रुपए में से जो भी कम होगा, उसका भुगतान किया जाएगा।

उदाहरण के लिए अगर ‘ए’ के बैंक में दो लाख रुपए जमा थे और ‘बी’ के 7 सात लाख रुपए तो बैंक के बंद होने की सूरत में ‘ए’ को उस बीमा की वजह से दो लाख रुपए मिल जाएंगे, जबकि ‘बी’ को पांच लाख रुपए मिलेंगे।

Further Reading – Types of Banks in India in Hindi

Kin Banks me Insurance Cover Available Hai?

किन बैंकों में इंश्योरेंस कवर? – सभी कमर्शियल व को-ऑपरेटिव बैंक इस स्कीम में शामिल हैं। इनमें

  • 18 पब्लिक सेक्टर बैंक,
  • 22 प्राइवेट बैंक,
  • 46 फॉरेन बैंक,
  • सभी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक,
  • स्टेट कोऑपरेटिव बैंक,
  • डिस्ट्रिक्ट सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक,
  • अर्बन कोऑपरेटिव बैंक आदि शामिल हैं।

Kin Type ke Accounts me Cover hai?

किस तरह के खातों पर कवर? – सेविंग, करेंट, रेकरिंग और फिक्स्ड खातों में जमा धनराशि पर बीमा कवर प्रदान किया जाता है। दूसरे देश की सरकार की तरफ से जमा, केंद्र व राज्य सरकार द्वारा जमा राशि, अंतर बैंकिंग जमा वगैरह पर बीमा कवर का प्रावधान नहीं है।

Kin Amount par Insurance Cover hai?

किस राशि पर बीमा कवर? – जमाकर्ता को जो अधिकतम 5 लाख रुपए का बीमा कवर मिलता है, उसमें मूलधन के साथ इस पर मिलनेवाला ब्याज भी शामिल है। मान लीजिए किसी जमाकर्ता का किसी बैंक में कुल 6 लाख रुपए जमा है, जिसमें 4.50 लाख रुपए मूलधन है, जबकि बाकी 1.50 लाख रुपए ब्याज के है। बैंक के डूबने की स्थिति में जमाकर्ता को अधिकतम 5 लाख रुपए का भुगतान किया जाएगा।

Jama Paisa Same Bank ki alag-alag branch me hoto?

जमा राशि एक बैंक की अलग-अलग शाखाओं में हो तो? – अगर किसी एक बैंक की अलग-अलग शाखाओं में आपकी धनराशि जमा है तो सभी शाखाओं में जमा धनराशि को जोड़ दिया जाएगा और अधिकतम 5 लाख रुपए की जमा राशि पर ही बीमा कवर का फायदा मिलेगा। मान लीजिए किसी जमाकर्ता का एक बैंक की तीन शाखाओं में कुल 7 लाख रुपए जमा हैं तो उस बैंक के डूबने की स्थिति में जमाकर्ता को कुल 5 लाख रुपए का ही भुगतान किया जाएगा।

इसी तरह अगर आपके किसी बैंक में savings  या करंट अकाउंट में 4 लाख रुपए है और इसी बैंक में 3 लाख रुपए की एफडी है तो ऐसी स्थिति में भी कुल 5 लाख रुपए का ही बीमा कवर मिलेगा।

लेकिन यदि एक बैंक की एक ही या अलग-अलग शाखाओं में अलग-अलग तरह की कैपेसिटी का खाता है तो अलग-अलग कैपेसिटी वाले खाते में जमा धनराशि पर अलग-अलग बीमा कवर का फायदा मिलेगा।

मान लीजिए किसी जमाकर्ता का किसी एक बैंक में एक इंडिविजुअल अकाउंट हैं और उसी बैंक में पत्नी के साथ ज्वाइंट अकाउंट। नाबालिग बेटे के अभिभावक के तौर पर भी एक अकाउंट है तो इस स्थिति में तीनों अकाउंट की कैपेसिटी (ऑनरशिप) अलग-अलग मानी जाएगी और तीनों अकाउंट पर अलग-अलग बीमा कवर मिलेगा।

आप पढ़ रहे है – Bank me Deposit kitna Paisa Secure hai?

Bank me jyada joint account hone par?

अगर एक से ज्यादा ज्वाइंट अकाउंट हों तो? – अगर कोई जमाकर्ता का एक बैंक में एक से ज्यादा ज्वाइंट अकाउंट हैं और सभी ज्वाइंट अकाउंट में अगर वह जमाकर्ता एक ही तरह का होल्डर है यानी वह या तो पहला अकाउंट होल्डर है या दूसरा अकांउट होल्डर है तो सभी ज्वाइंट अकाउंट पर जमा धनराशि को जोड़ दिया जाएगा। मतलब अलग-अलग बीमा कवर नहीं मिलेगा।

लेकिन अगर अलग-अलग ज्वाइंट अकाउंट में जमाकर्ता का नाम एक आर्डर में नहीं है, मसलन अगर एक ज्वाइंट अकाउंट में वह पहला अकाउंट होल्डर है, दूसरे में दूसरा और तीसरे में तीसरा …… या अलग-अलग लोगों के साथ ज्वाइंट अकाउंट हो तो अलग-अलग ज्वाइंट अकाउंट में जमा धनराशि पर अलग-अलग बीमा कवर मिलेगा।

Agar Jama Raashi alag alag Banks me hoto?

यदि जमा राशि अलग-अलग बैंकों में हो तो? – अगर आपकी धनराशि अलग-अलग बैंक में जमा है तो प्रत्येक बैंक के लिए बीमा कवर की अधिकतम सीमा 5 लाख रुपए होगी। मान लीजिए अगर ‘ए’ बैंक में आपके 6 लाख रुपए जमा है और ‘बी’ बैंक में 7 लाख रुपए। अगर दोनों बैंक डूब जाए तो आपको दोनों बैंकों में डूबी हुई राशि पर बीमा के रूप में 5-5 लाख रुपए यानी कुल 10 लाख रुपए का भुगतान मिलेगा।

जरूरी सलाह

  • अगर आपकी जमा राशि कुल पांच लाख रुपए से ज्यादा हो रही है तो उसे एक से अधिक बैंकों में जमा करके रखना चाहिए।
  • अगर आप एक बैंक में ही जमा करके रखना चाहते हैं तो एक इंडिविजुअल अकाउंट के अलावा अपने जीवनसाथी या/और नाबालिग बच्चों के साथ ज्वाइंट अकाउंट भी शुरू करें।

आप पढ़ रहे है – Bank me Deposit kitna Paisa Secure hai?

You may also like

1 comment

Avatar
mamta May 25, 2020 - 6:34 AM

Very useful information

Reply

Leave a Comment